ईरान में मस्जिद के दरवाजे को चाटने से कोरोनावायरस ने लिया विकराल रूप

ईरान कोरोनावायरस से सबसे ज्यादा जूझ रहे देशों में से एक है। ऐसा लग रहा है कि अभी स्थिति और भी खराब हो सकती है। ईरान में कोरोना वायरस के मरीजों की देखभाल करने के लिए डॉक्टर्स और उनकी टीम दिन रात लगातार काम कर रही है। लेकिन उसके बावजूद वहां पर मौतों का आंकड़ा बढ़ता जा रहा है। अब तो ईरान में मेडिकल स्टाफ की भी मौत होने की खबरें आ रही हैं। लेकिन सरकारें इस त्रासदी में हो रही मौतों को छुपाने में लगी हुई है। जब करोना वायरस इरान में लोगों को संक्रमित कर रहा था, तभी ईरान में पूरी दुनिया को झूठ बोल दिया था।
यह वायरस पहले ही हफ्ते में पूरे ईरान के 36 प्रांतों को अपनी चपेट में ले चुका था। दूसरे देश जैसे कनाडा, न्यूजीलैंड, कतर, ओमान, जर्जिया, कुवैत, संयुक्त अरब अमीरात, अफगानिस्तान, इराक, पाकिस्तान इत्यादि का कहना है कि उनके यहां यह बीमारी ईरान की वजह से फैली है। कोरोना वायरस से पूरी दुनिया में अफरा-तफरी मची हुई है। अभी तक 3 लाख से ज्यादा लोग संक्रमित हो चुके हैं और मौत का आंकड़ा 14000 से भी ज्यादा है।
भारत में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या 600 से भी ज्यादा है। भारत के पड़ोसी देशों में भी की स्थिति काबू में नहीं है। बांग्लादेश, पाकिस्तान में तो यह विकराल रूप ले चुका है। जब भारत में पुराना वायरस के मरीज की पुष्टि हुई थी तब यह मामला 5 था और अगले ही दिन यह मामला 27 हो गया था। अब अगर स्वास्थ्य विभाग के आंकड़ों पर गौर करें तो यह पता चलता है कि पूरे देश में अस्पतालों में 26 हजार सरकारी अस्पताल ही उपलब्ध है।
यदि पर बेड व्यक्ति की बात करें तो यह आंकड़ा 13 सौ ही होता है। मतलब 13 सौ व्यक्ति पर एक बेड है। यह आंकड़ा ग्रामीण क्षेत्रों में तो और भी बढ़ जाता है। वहां 3000 व्यक्ति पर एक बेड मौजूद है। राज्य के अनुसार बात करें तो बिहार की हालत सबसे ज्यादा खराब है वहां वेंटिलेटर मशीन की भी कमी है।