कर्फ्यू के चलते ये भूखा परिवार पहुंचा पुलिस के पास..

पिछले 5 दिन से लगे हुए कर्फ्यू के चलते जहां रोजमर्रा के सामानों को खरीदने में दिक्कत आ रही है वहीं गरीब तथा रोज कमा कर खाने वाले परिवारों का बहुत बुरा हाल है। इसी तरह का एक वाक्या सामने आया जब स्थानीय नाभा कॉलोनी के रहने वाले एक परिवार को कोई काम न मिलने के चलते तथा कर्फ्यू लगा होने की वजह से कई दिनों से भोजन नहीं मिला तो परिवार द्वारा जब खन्ना के पुलिस स्टेशन में संपर्क किया गया तो पुलिस तथा स्थानीय मंदिर संस्था ने परिवार को जहां भोजन उपलब्ध करवाया वहीं परिवार की एक महिला जोकि 7 महीने से गर्भवती थी, के टैस्ट करवाते हुए उसको जरूरी दवाइयांं भी मुहैया करवाईं।
इस संबंधी जानकारी देते हुए श्री हनुमान मंदिर सेवा समिति पुराना बाजार के चेयरमैन वेद प्रकाश ने बताया कि कफ्र्यू के चलते जहां कई लोग काम न मिलने की वजह से बेरोजगार बैठे हैं तथा इस समय उनको खाने के भी लाले पड़े हुए हैं। इसी तरह आज स्थानीय नाभा कॉलोनी निवासी एक परिवार जिसका मुखिया आसिफ इकबाल एवं उसकी पत्नी आरिफ जोकि 7 माह की गर्भवती है द्वारा पिछले 3 दिनों से कुछ काम तथा भोजन न होने के चलते स्थानीय पुलिस स्टेशन का दरवाजा खटखटाया गया। पुलिस अधिकारियों ने उनको हनुमान मंदिर पुराना बाजार में भेजते हुए संस्था के पदाधिकारियों द्वारा जहां उनको भोजन तथा आर्थिक मदद दिलवाई वहीं मंदिर के पदाधिकारियों द्वारा महिला का टैस्ट करवाते हुए उसको दवाई भी लेकर दी गई।

मंदिर के पदाधिकारियों ने बताया कि गर्भवती महिला के पेट में पल रहे बच्चे की भी भूख के चलते पल्स रेट कम हो गई थी जिसको आनन-फानन की स्थिति में सिविल अस्पताल में लाते हुए बच्चों की माहिर डॉक्टर मुक्ता गॉड से उसकी जांच करवाई गई तथा सिविल अस्पताल के ही डॉक्टर गुलशन कुमार ने उसकी स्कैन करने के बाद उसको जरूरी दवाइयां उपलब्ध करवाईं। इसके चलते अब महिला तथा उसके बच्चे की हालत स्थिर है। मंदिर के पदाधिकारियों ने बताया कि मंदिर के सरपरस्त विनोद दत्त, चेयरमैन वेद प्रकाश, शमिंद्र मिंटू तथा अन्य पदाधिकारियों द्वारा यह फैसला लिया गया कि इस आपदा की घड़ी में जब तक हालात सामान्य नहीं हो जाते तब तक इनको तथा ऐसे अन्य परिवारों को मंदिर कमेटी की तरफ से फल, दवाइयां, दूध आदि उपलब्ध करवाया जाएगा। इस मौके पर पुलिस जिला खन्ना के एस.एस.पी. हरप्रीत सिंह तथा एस.पी. जगविंदर सिंह चीमा द्वारा भी परिवार को पूरी मदद का भरोसा दिया गया।