मालगाड़ी, ट्रक से लेकर नाव तक से भी लिया लिफ्ट, मां के निधन पर 1100 किमी दूर से पहुंचा जवान...

कोरोना वायरस के फैलते संक्रमण को देखते हुए देश में 23 मार्च से लॉकडाउन है. हवाई सेवा से लेकर रेलवे, बस, ऑटो-रिक्शा और प्राइवेट गाड़ियों पर भी पाबंदी है. ऐसे में एक जवान अपनी मां की मौत के बाद 1100 किमी का सफर पैदल, मालगाड़ी और नाव के रास्ते तय किया. छत्तीसगढ़ सशस्त्र बल में तैनात संतोष यादव ने 1100 किमी की ये दूरी 3 दिन में तय की. उनके मुताबिक़, उनकी मां की तबीयत ख़राब हुई. 
लोग आनन-फानन में मिर्जापुर से वाराणसी लेकर पहुंचे, जहां अगले दिन उनका निधन हो गया. संतोष को सूचना मिली तो वह घर पहुंचने की तैयारी करने लगे, क्योंकि उनका छोटा भाई और बहन दोनों मुंबई में रहते हैं. 7 अप्रैल तक संतोष साधन की व्यवस्था करते रहे, लेकिन घर पहुंचने का कोई उपाय नहीं सूझा. वह बीजापुर तक पैदल पहुंचे. वहां धान से लदे एक ट्रक पर लिफ्ट ले ली. इसके बाद रायपुर से क़रीब 200 किमी दूर एक मिनी ट्रक ने उन्हें पहुंचा दिया. 

वहां पुलिस को उन्होंने अपनी स्थिति बताई. वहां तैनात एक अधिकारी से उनके संपर्क निकले और  उन्होंने दवाई ले जाने वाले वाहन में रायपुर तक पहुंचाने में मदद की. रायपुर में वह रेलवे सुरक्षा बल में तैनात एक दोस्त के जरिए मालगाड़ी में बैठ गए. इसके बाद 10 अप्रैल  की सुबह वह यूपी के चुनार में उतरे. चुनार में उतरने के बाद उन्होंने गांव तक पहुंचने के लिए गंगा पार करना था. ऐसे में उन्होंने नाव की सवारी की. इसके बाद पैदल-पैदल वह अपने गांव पहुंचे. हालांकि, उन्हें अफसोस है कि वह मां का अंतिम संस्कार नहीं कर सके.