कोरोना के इस मुश्किल घड़ी में 21 दिन में ही हमारे जवानों ने बना दिए 15 लाख PPE किट और मास्क

भारतीय सुरक्षा बल कोरोना वायरस के खिलाफ लड़ाई में हर छोर पर संघर्ष कर रहे हैं. अब उन्होंने पीपीई के तहत 15 लाख प्रोटेक्शन सूट और मास्क तैयार कर दिया है. यह इस लड़ाई में बड़े हथियार के रूप में सामने है. रिपोर्ट्स के मुताबिक़, सेना, अर्धसैनिक बल और राज्यों की पुलिस ने 21 दिन के लॉकडाउन के दौरान अलग-अलग जगहों पर 15 लाख से अधिक मास्क और पीपीई सूट तैयार किए. ये सभी सूट और मास्क जवानों  और आम लोगों को वितरित किया जा रहा है. 
आपको बता दें कि कोरोना वायरस की दस्तक के साथ ही देश के डॉक्टरों ने सवाल उठाया था कि बिना पीपीई किट और मास्क के इस वायरस को हराना आसान नहीं होगा. हेल्थवर्कर्स के भी संक्रमित होने का खतरा रहेगा. ऐसे में सुरक्षा बलों ने इन्हें बनाने का निर्णय लिया. एक तरफ़ दूसरे देश मल्टीनेशनल कंपनियों को ये किट और मास्क बनाने की जिम्मेदारी दे रहे हैं तो दूसरी तरफ़ हमारे जवान ही इसे तैयार कर दे रहे हैं. सीआरपीएफ़ के डीआईजी एम. दिनाकरन के मुताबिक़, हमने अपने डिजाइन का प्रपोजल दिया, जिसे एक्सपर्ट्स के द्वारा पास कर दिया गया. 
इसके बाद देशभर के अधिकांश यूनिट्स इस काम में लग गए. देखते-देखते लाखों की संख्या में पीपीई किट्स तैयार हो गए. आईटीबीपी और बीएसएफ की यूनिट्स में भी उच्च गुणवत्ता वाले पीपीई किट्स तैयार होने शुरू हो गए हैं. जवान फेब्रिकेशन सेंटर में पर्सनल प्रोटेक्शन इक्विपमेंट और मास्क तैयार कर रहे हैं.  बता दें कि डीआरडीओ भी बड़ी मात्रा में सैनिटाइजर तैयार कर रहा है. ये सैनिटाइजर्स हेल्थ वर्कर्स के अलावा पुलिस और कोरोना से लड़ाई में लगे दूसरे लोगों को मुहैया कराया जा रहा है.