कोरोना वायरस के बीच 22वीं बार मां बनी 44 साल की महिला, 30 साल का है सबसे बड़ा बेटा

ब्रिटेन में कोरोना वायरस के बीच 44 साल की महिला सू रैडफोर्ड ने 22वें बच्चे को जन्म दिया है। ब्रिटेन इस सबसे बड़े परिवार में हाल ही में एक नन्हा मेहमान आया है। एक साल पहले सू ने अपने 21वें बच्चे को जन्म दिया था। उस समय सू ने कहा था कि यह उनका आखिरी बच्चा है। उनके 48 साल के पति नोएल रैडफोर्ड ने हाल में जन्मी बच्ची की तस्वीर इंस्टाग्राम पर शेयर की है। ब्रिटेन में फैले कोरोना वायरस के बीच मां और बच्ची दोनों पूरी तरह से स्वस्थ हैं। सू की बेटी का वजन तीन किलो है। ब्रिटेन में जन्म के 42 दिन के अंदर माता-पिता को बच्चे का पंजीकरण कराना आवश्यक होता है।
पंजीकरण के लिए जहां बच्चे का जन्म हुआ उस जिले के रजिस्ट्री ऑफिस में जाना होता है हालांकि कोरोना की वजह से पंजीकरण प्रक्रिया रद्द है। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार ब्रिटेन के इस परिवार का गुजारा बेकरी व्यापार से चलता है। नौवें बच्चे के बाद नोएल ने नसबंदी करवा ली थी लेकिन और ज्यादा बच्चों की चाहत में दोबारा सर्जरी कराई। बता दें कि सू और नोएल के सबसे बड़े बेटे का नाम क्रिस है जो 30 साल का है। वहीं उनकी बहन सोफिया की उम्र 25 साल है जो खुद तीन बच्चों की मां बन चुकी है। इसके अलावा परिवार के बच्चों में कोहले (23), जैक (23) डेनियल (20), ल्यूक (18), मिली (17), कैटी (16), जेम्स (15), एली (14), एमी (13), जॉश (12), मैक्स (11), टिली (9), ऑस्कर (7), कैस्पर (6), हैली (4), फोबी (3), आर्ची (18 महीने) और बोनी (8 महीने) शामिल हैं।
इस जोड़े की 17वीं संतान अब इस दुनिया में नहीं है। क्रिस और सोफिया अब अपने घर में शिफ्ट हो चुके हैं। 2004 से पहले तक यह परिवार लगभग 15,000 रुपए के किराए के मकान में रहता था। नोएल का बेकरी का व्यापार है और अब परिवार 10 बेडरूम वाले घर में रहता है। वे हर महीने केवल खाने पर 32 हजार से ज्यादा रुपये खर्च करते हैं।घर में हमेशा सफाई होती रहती है और रोजाना 18 किलो कपड़े धुलते हैं।