इस महिला पुलिसकर्मी ने अपने 3 साल के बेटे को 20 दिन से गोद में नहीं लिया, यूं निभा रहीं हैं लॉकडाउन में भी फर्ज..

मध्य प्रदेश में दतिया कोरोना वायरस के संक्रमण से मुक्त है। ऐसा होने के पीछे यहां के पुलिस-प्रशासन और स्वास्थ्यकर्मियों का लगातार सजग रहना है। यहां कई अधिकारी ऐसे हैं, जिन्हें आप कोरोना वॉरियर्स कह सकते हैं। इन्हीं में एक दतिया के बड़ौनी थाना की प्रभारी भूमिका दुबे भी हैं। भूमिका दुबे ऐसी महिला पुलिस अफसर हैं, जिन्होंने रात-दिन अपनी ड्यूटी पर कुर्बान कर दिए हैं। वह तीन-चार दिन में एक बार घर जा पाती हैं। मगर, बच्चों से दूर रहती हैं।
भूमिका बताती हैं कि, ''मैंने अपने 3 साल के बच्चे को 20 दिन से गोद में नहीं लिया। ऐसा इसलिए, क्योंकि मैं चाहती हूं कि, मेरी वजह से मेरे बच्चे या परिवार को कोई मुसीबत न झेलनी पड़े। रोजाना मैं ड्यूटी के दौरान कई लोगों के संपर्क में आती हूं, न जाने कौन संक्रमित हो। इसलिए अपने बच्चे से दूरी बना रखी है।' वह कहती हैं, 'दतिया पुलिस लाइन में हम पुलिसकर्मियों के लिए सरकारी आवास है। वह मेरे थाने से 12 किमी दूर है।'
भूमिका ने बताया कि, सुबह जब मैं ड्यूटी को निकलती हूं तो बेटा सो रहा होता है। उसे दूर से ही देख लेती हूं, लेकिन गोद में नहीं लेती। हमारा तो भीड़ के बीच भी जाना होता है। इसलिए बहुत सतर्कता बरतनी पड़ती है। टेंशन में मेरा वजन भी कई किलो घट गया है, लेकिन ड्यूटी तो ड्यूटी होती है।'
गुजरात के राजकोट की महिला पुलिसकर्मियों की दिनचर्या और ड्यूटी के प्रति उनकी सजगता से भी पुलिस का फर्ज बखूबी समझा जा सकता है। यहां पड़धरी में स्थित थाने में तैनात दो पुलिसकर्मी अपने बच्चों को रोज घर से साथ लाती हैं और बिना थके ड्यूटी करती हैं। 
इन बच्चों में 10 माह की बेटी और 14 महीने का बेटा शामिल हैं। बच्चों की इतनी कम उम्र में कोई मां आमतौर पर देखभाल करने के लिए घर पर समय बिता रही होती है। मगर, इन पुलिसकर्मियों से यह सीख मिलती है कि, मुश्किल घड़ी में भी फर्ज निभाना नहीं भूलना चाहिए।