कोरोना के दौरान कलयुगी माँ ने आधी रात 5 बच्चों को गंगा में फेंका, बताया ऐसी वजह...

यूपी के भदोही जिले में भयानक घटना सामने आई है. यहां एक मां ने अपने 5 बच्चों को आधी रात गंगा नदी में फेंक दिया है. ये घटना रात लगभग 2 बजे की है. स्थानीय पुलिस को इस घटना की जानकारी सुबह मिली. इसके बाद आनन-फानन में पुलिस ने रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया है. महिला का कहना है कि इसका अपने पति से अक्सर झगड़ा होता रहता था इससे वो बेहद परेशान हो गई थी. उसके बाद उसने ये कदम उठाया है.
मामला उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद के गोपीगंज कोतवाली क्षेत्र के जहांगीराबाद गंगा घाट का है. पांचों बच्चों की तलाश स्थानीय गोताखोरों की मदद से पुलिस करने में जुटी हुई है. महिला के मुताबिक, उसका पति से झगड़ा हुआ था, जिसकी वजह से उसने अपने पांचों बच्चों को गंगा में फेंक दिया. जहांगीराबाद गांव की रहने वाली महिला मंजू यादव शनिवार देर रात अपने बच्चों को लेकर जहांगीराबाद गंगा घाट पर पहुंची, जहां उसने सभी बच्चों को गंगा में फेंक दिया. इन बच्चों की पहचान वंदना (12), रंजना (10), पूजा (6), शिव शंकर (8) और संदीप (5) के रूप में हुई है. 
महिला मंजू यादव ने बताया कि पहले उसने तीन बच्चों को गंगा में फेंका उसके बाद उसने अपने अन्य दो बच्चों को भी गंगा में फेंक दिया और फिर वह अपने घर चली आई. बताया जाता है कि जिस वक्त महिला बच्चों को लेकर गंगा घाट पर पहुंची थी, उस समय उसका पति घर पर नहीं था. जैसे ही खबर परिजनों और ग्रामीणों को लगी तो हड़कम्प मच गया. ग्रामीणों ने तत्काल इसकी सूचना पुलिस को दी. गोपीगंज कोतवाली पुलिस स्थानीय गोताखोरों की मदद से बच्चों को तलाश करने में जुटी हुई है.  
आसपास के कई गंगा घाटों के गोताखोरों को पुलिस ने बच्चों को तलाश करने में लगाया है. जिलाधिकारी राजेंद्र प्रसाद और पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह गंगा घाट पर पहुंचे. उन्होंने पुलिस को निर्देश दिए हैं कि बच्चों को खोजने के प्रयास तेजी से जारी रखा जाए. पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह ने कहा कि महिला ने बताया है कि उसने अपने बच्चों को गंगा में फेंक दिया है. पुलिस बच्चों को खोजने के प्रयास में जुटी हुई है.