युवती को भगाने की रंजिश में तीन लोगों को बेरहमी से उतार दिया था मौत के घाट, एसओ सहित 5 निलंबित

फर्रुखाबाद के गदनापुर में युवती को भगाने की रंजिश में में सुरेन्द उर्फ पप्पू, उसकी पत्नी सुलोचना, बेटे अतुल की शुक्रवार को हत्या कर दी गई थी। हत्या के मामले में छह लोगों के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज हुई है। हत्यारोपी अवनीश, उसकी पत्नी व मां पुलिस की हिरासत में हैं। पुलिस अधीक्षक डॉ. अनिल मिश्रा ने शनिवार देर रात कमालगंज थानाध्यक्ष अंगद सिंह,  पहले हल्का इंचार्ज रहे दरोगा मदन लाल पिपल, इस समय के हल्का इंचार्ज मोहम्मद सरताज, दरोगा विपिन कुमार व सिपाही शिव शंकर को निलंबित कर दिया है।
गांव गदनपुर देवराजपुर में शुक्रवार रात आठ बजे सुरेंद्र उर्फ पप्पू (40) पुत्र नत्थूलाल, उसकी पत्नी सुलोचना (37) व पुत्र अतुल(9) की युवती को भगाने की रंजिश में उनके घर में घुसकर कुल्हाड़ी से हत्या कर दी गई थी। हमले में सुरेंद्र की मां तारावती (60) व पुत्र विवेक (10) घायल हो गया था। पुलिस ने घायलों को सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र कमालगंज भर्ती कराया था। पुलिस के आने पर घरों में दुबके लोग घरों से निकले थे।
थानाध्यक्ष अंगद सिंह ने आरोपी अवनीश की पत्नी व मां को हिरासत में लेकर थाने भिजवाया। एसपी डॉ. अनिल मिश्रा, एएसपी त्रिभुवन सिंह, सीओ राजवीर सिंह, स्वाट टीम प्रभारी दिनेश गौतम आदि अधिकारियों की मौजूदगी में पुलिस ने काफी मशक्कत के बाद शवों को टेंपो से पोस्टमार्टम हाउस फतेहगढ़ भिजवाया था।
शनिवार को मृतक सुरेंद्र उर्फ पप्पू के छोटे भाई नरेंद्र कुमार ने भाई के साढ़ूू शिक्षामित्र अर्जुन सिंह पुत्र श्रीराम, अर्जुन के पुत्र अवनीश व अभिषेक, अर्जुन के  नौखंडा निवासी दामाद मनोज कुमार, गांव के गिरीश पुत्र दयाराम व एक अज्ञात पर हत्या व हत्या के प्रयास की रिपोर्ट दर्ज कराई है। इसमें कहा कि 20 नवंबर 2019 को उसका भतीजा दुर्वेश दिल्ली जा रहा था। पड़ोस में रहने वा मौसेरा भाई अवनीश बाइक से फर्रुखाबाद तक उसे भेजने की बात कहकर साथ ले गया था।
तब से उसका पता नहीं चला है। भाभी सुलोचना ने थाने में गुमशुदगी दर्ज कराई थी। कुछ समय बाद अदालत से पुत्र की हत्या अवनीश व अन्य लोगों द्वारा कर दिए जाने की आशंका में मुकदमा दर्ज कराया था। इसके बाद अवनीश, उसका पिता अर्जुन तथा परिवार के अन्य लोग आए दिन भाई सुरेंद्र को उसके परिवार सहित हत्या करने की धमकियां देते थे। शुक्रवार देर शाम भाई सुरेंद्र के घर सभी आरोपी घुस आए और कुल्हाड़ी व गड़ासे से भाई सुरेंद्र, भाभी सुलोचना व घर में मौजूद अन्य लोगों पर ताबड़तोड़ वर करने लगे। भतीजा अतुल घर से बाहर भागा तो अर्जुन व अवनीश ने दौड़ कर उस पर हमला कर दिया। हमले में मां तारावती व भतीजा विवेक गंभीर रूप से घायल हुए है।

तीन को निपटा कर आया हूं, बताओ कहां बैठना है
तीनों की हत्या व दो को घायल करने के बाद हत्यारोपी अवनीश हाथ में खून से सनी कुल्हाड़ी लेकर थाना कमालगंज पहुंचा। उसने कहा कि मैं तीन लोगों को निपटा कर आया हूं, बताओ कहां बैठना है। पुलिस कर्मियों ने उसे हिरासत में लेकर हवालात में बिठा दिया। गांव में पहुंचकर पुलिस ने अवनीश की पत्नी राधा कुमारी, मां द्रोपदी व एक वर्षीय पुत्र भानू प्रताप को हिरासत में लेकर कमालगंज थाने भेजा था।