थ्रेसिंग मशीन से गेहूं की 80 एकड़ फसल में लगी आग, करोड़ो का हुआ नुकसान

प्रखंड अंतर्गत वारी पंचायत के भूषणा जगना  ग्राम  के  फसीहरा चौर में आज दोपहर लगभग 1 बजे  खेतों में लगी गेहूं की  लहलहाती फसल मे थ्रेशिंग मशीन अचानक आग लग गई। कुछ ही देर में तेज पछुआ हवा के कारण आग की लपट  लगभग 70 से 80 एकड़ में लगी गेहूं की फ़सल  को जलाकर पूरी तरह राख कर दिया। जली हुई फसल की कीमत करोड़ों में आंकी जा रही है। 
स्थानीय लोगों के अनुसार दोपहर में थ्रेसींग मशीन से निकली चिंगारी  से आग लगने की इतनी बड़ी घटना हुई है।  बताया गया है कि जिस समय आग लगने की घटना हुई पछुआ हवा की रफ्तार भी काफी तेज हो गई। जिसके कारण कुछ देर में ही आग की लपट  चौर में  70 से 80 एकड़ में लगी कई किसानों के गेहूं की फसल को जलाकर पूरी तरह राख कर दिया।

देखते ही देखते हैं कुछ देर में ही किसानों का इतने दिनों की मेहनत आग की भेंट चढ़ गई। आग की  लपट इतनी भयंकर  थी कि कोई भी आग बुझाने के लिए हिम्मत नहीं जुटा  पाने में सफल  होते। लगभग हज़ारो लोग दर्शक बने रहे। 
जिन किसानों के फसल जला है उसमें विजय राम, महेंद्र राम, छठु राम, चंद राम, बिहारी राम, जुगे राम, छेदी राम, रामा राम, राम बालक यादव, हरेराम यादव, राम कुमार यादव , लाला यादव, जीवछ यादव, लल्लन यादव,  रामचंद्र यादव, लक्ष्मी यादव, रामजीवन, राम प्रकाश यादव, प्रमाण यादव, विभीछण  यादव,  जनक यादव, सुरेश यादव, महेंद्र यादव,  सिवलेश्वर  यादव,  बालेश्वर यादव, रामस्वरूप यादव,  जगदीश यादव, एवं खट्टर यादव  समेत अन्य किसान शामिल है। सभी लोग बटाई पर खेती कर किसी तरह जीवन यापन कर रहे थे। जानकारी यह भी दी गई है कि जिस समय आग लगी  उस समय  प्रखंड स्थित  अग्निशमन दस्ते को  सूचना दी गई  लेकिन  वहां से बताया गया कि कहीं और आग लगी है वहीं पर अग्निशामक का दस्ता गया हुआ है ।
यह भी बताया गया है कि चौर में पानी की व्यवस्था नहीं होने के कारण लोग अपने हाथों में बाल्टी लेकर  मूकदर्शक बने रहे।   बताते चलें कि  प्रखंड के  17 पंचायत में मात्र 500 लीटर की एक ही दमकल है जो साधारण आग लगने पर भी सही ढंग से इस पर काबू नहीं कर पाता है।