वाराणसीः गंगापार रेती में झोपड़ी डालकर हफ्तों से टिके हैं विदेशी, पुलिस-प्रशासन बेखबर

वाराणसी में लॉकडाउन के बीच प्रधानमंत्री आदर्श ग्राम डोमरी में गंगा किनारे शनिवार को विदेशी युवक, महिला व बच्चे को घूमते देख ग्रामीण सन्न रह गए। तीनों पानी की तलाश में निकले थे।पता चला कि तीनों मड़ई में करीब 15 दिनों से रह रहे हैं। तीनों विदेशियों के बारे में न तो  प्रशासन को जानकारी थी और न ही पुलिस को। ग्रामीणों ने इसकी सूचना पुलिस को देने के साथ ही विदेशियों को पानी भी उपलब्ध कराया। 
सूचना पर पहुंची रामनगर पुलिस ने तीनों से बात की। तीनों की पहचान महिला जोया, पुरुष जार्ज व बालक पॉवेल के रूप में हुई। जार्ज ने पुलिस को बताया कि तीन महीने पहले ये लोग रूस से भारत आये थे। आध्यात्मिक शांति के लिए इन लोगों ने वाराणसी आने का फैसला किया। तभी से ये लोग प्रतिदिन मणिकर्णिका घाट के सामने रेत पर मड़ई में रहते थे।

बीते 10 दिनों से लॉकआउट की वजह से ये लोग उस पार नहीं जा पा रहे थे। जब तक इन लोगों के पास भोजन के संसाधन थे, उसका उपयोग किया लेकिन जब खत्म हो गया तो गांव में जाने लगे। थानाध्यक्ष विनोद मिश्रा ने बताया कि आलाधिकारियों को इनके गंगा किनारे रहने की सूचना दे दी गई है। उनके आदेश के बाद ही आगे की कार्रवाई की जाएगी।