"एक बार लगा था कि मैं मरने वाली हूं" कोरोना से 'ध्यान' हटाने के लिए इस लड़की ने लगाया ध्यान

यह लड़की 18 मार्च को यूके से लौटी थी। जब मालूम चला कि उसे कोरोना संक्रमण हो चुका है, तो मन में कई तरह के ख्याल आए। लेकिन फिर उसने एक बात ठान ली कि किसी तरह से हार नहीं मानना है। यह हैं तमन्ना जैन। 14 दिन के इलाज के बाद अब वे घर लौटने की तैयारी में हैं। तमन्ना यूके की यूनिवर्सिटी कैम्ब्रिज से मास्टर इन अप्लायइड मैथमेटिक्स की पढ़ाई कर रही हैं 
जब वे इंडिया लौटी, तब उन्हें कोरोना संक्रमण का शक हुआ। 19 मार्च को तमन्ना हॉस्पिटल जांच कराने पहुंचीं। जब रिपोर्ट पॉजिटिव आई, तो तमन्ना सन्न रह गईं। एक बार तो उन्हें लगा कि अब वे नहीं बचेंगी। फिर सोचा कि डॉक्टर उन्हें बचा लेंगे। तमन्ना ने बताया कि 14 दिनों तक उन्होंने अपने दिमाग में नकारात्मक विचार नहीं आने दिये। इसके लिए उन्होंने ध्यान लगाना शुरू कर दिया। इससे उनका मनोबल बढ़ा। तमन्ना अभी खानपुर मेडिकल कॉलेज में भर्ती हैं। 

तमन्ना ने बताया कि दिमाग को तरोताजा रखने और सेहत ठीक रखने वे संतरा, कीवी, केला, सेब, दलिया और दाल खाती रहीं। विटामिन-सी की टेबलेट भी लेती रहीं। तमन्ना ने कहा कि बीमारी को लेकर हमारे मन में जो डर होता है, वही जानलेवा साबित होता है। तमन्ना ने सलाह दी कि कोरोना को हराना है, तो सोशल डिस्टेंसिंग का ख्याल रखें। हाथ बार-बार धोते रहें। दूसरा, विदेश से आए हैं, तो अपनी जानकारी छुपाए नहीं। वहीं, फालतू की अफवाहों पर कोई ध्यान न दें