मौलाना साद की बेटी का निकाह आज, क्या शामिल होंगे मौलाना साद

दिल्ली के निजामुद्दीन इलाके में स्थित तबलीगी जमात के मरकज में भीड़ जुटाने के मामले में मुख्य आरोपी मौलाना साद अभी तक फरार चल रहे हैं। वहीं दिल्ली पुलिस क्राइम ब्रांच टीम मौलाना मोहम्मद साद की गिरफ्तारी में जुटी हुई है। बता दें कि जमात के अमीर यानि मौलाना मोहम्मद साद के अलावा मरकज मैनेजमेंट के उनके 6 साथी भी फरार चल रहे हैं। वहीं 5 अप्रैल यानी आज मौलाना साद की बेटी का निकाह है, जिस पर पुलिस अपनी नजर बनाए हुए है।

5 अप्रैल को होना है बेटी का निकाह
मौलाना साद के 2 बेटे हैं और एक बेटी। मामले की जांच के दौरान पता चला है कि जमात के अमीर की बेटी का 5 अप्रैल को निकाह होना है। इस निकाह क्राइम ब्रांच की नजरें टिकी हुई हैं। सभी की नजरें इस बात पर है कि क्या मौलाना साद अपनी बेटी के निकाह में शामिल होते हैं या नहीं। आखिरी बार मौलाना को मरकज में 29-29 मार्च की रात को देखा गया था।

आयोजन में शामिल लोगों की जानकारी जुटा रही क्राइम ब्रांच

इसके अलावा क्राइम ब्रांच ने लोकल इनपुट के आधार पर मार्च में मरकज के आयोजन में शामिल हुए लोगों की जानकारी इकट्ठी करनी शुरु कर दी है। मिली जानकारी के मुताबिक, मोबाइल डेटा के आधार पर जमातियों की पहचान की जा रही है। इनके मोबाइल को जब्त कर वीडियो या ऑडियो होने की जांच हो रही है। इसके अलावा अलग-अलग क्वारनटीन सेंटरों में आइसोलेट किए गए देशी-विदेशी जमातियों पर भी जांच एजेंसियां नजर बनाई हुई हैं। इसलिए वहां पर सुरक्षा के कड़ी व्यवस्था रखी गई है, ताकि इनमें से कोई भी जमाती भागने की कोशिश न करें।

कोरोना संदिग्ध जमाती ठीक होने तक रहेंगे एजेंसियों के रडार पर
इसके साथ ही अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कोरोना संदिग्ध जमाती ठीक होने तक जांच एजेंसियों के रडार पर होंगे। वहीं सूत्रों का दावा है कि मरकज के जमातियों में स्मार्टफोन के इस्तेमाल पर पाबंदी है। इसलिए कुछ ही जमातियों के पास वीडियो या ऑडियो मिल सकती है। इस दौरान पुलिस और डॉक्टरों को विदेशी जमातियों से बात करने में काफी मुश्किल का सामना करना पड़ रहा है, क्योंकि सभी को इंग्लिश नहीं आती है। मरकज में इनसे बात करने के लिए दुभाषिए होते हैं, जो इनसे बात करते हैं।

मौलाना साद समेत 6 लोगों के खिलाफ FIR दर्ज

बता दें कि मरकज में भीड़ जुटाने को लेकर दिल्ली पुलिस ने मौलाना साद समेत सभी 6 लोगों के खिलाफ सभी पर सरकारी आदेशों का उल्लंघन करने और आपराधिक षड़यंत्र रचने का मुकदमा दर्ज किया है। वहीं मौलाना साद ने शुक्रवार को क्राइम ब्रांच द्वारा पूछे गए 26 सवालों के जवाब दिए हैं। मौलाना साद ने कहा है कि फिलहाल वो सेल्फ क्वारनटीन में हैं और मरकज अभी बंद है। पुलिस ने मरकज मुख्यालय को सील किया हुआ है, जिसके अंदर ही सारे दस्तावेज मौजूद हैं। मरकज मैनेजमेंट के मेंबर भी क्वारंटीन हैं। इसलिए फिलहाल दस्तावेज को मुहैया कराना मुश्किल है। सील खुलने और मैनेजमेंट के मेंबर्स के क्वारंटीन से बाहर आने के बाद ही दस्तावेज उपलब्ध कराया जा पाएगा।

क्राइम ब्रांच ने पूछे हैं ये सवाल
बता दें कि क्राइम ब्रांच ने जो नोटिस जारी किया है, उसमें संगठन का पता, और रजिस्ट्रेशन से जुड़ी जानकारियां, संगठन से जुड़े कर्मचारियों की पूरी डिटेल, जिसमें घर का पता और मोबाइल नंबर शामिल हो और मरकज के मैनेजमेंट से जुड़े लोगों की जानकारियां मांगी है। इसके अलावा क्राइम ब्रांच ने पूछा है कि ये लोग मरकज से कब से जुड़े हैं।