मिलिए राजस्थान की 'कोरोना योद्धा' सरपंचों से, घर पर मास्क बनाकर लोगों को फ्री में बांट रहीं

मिलिए अंतिमा नागर और बाली देवी से। दोनों राजस्थान में सरपंच हैं। कोरोना संकट में योद्धा की तरह काम कर रही हैं। ये घर पर रहकर मास्क बना रही हैं। अब तक सैकड़ों लोगों को फ्री में मास्क बांट चुकी है। बता दें कि राजस्थान में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। दस अप्रैल तक प्रदेश में 489 लोगों को कोरोना पॉजिटिव हो चुके हैं।

अंतिमा नागर, सरपंच दहीखेड़ा, झालावाड़
राजस्थान के झालावाड़ जिले के खानपुर उपखण्ड क्षेत्र की दहीखेड़ा ग्राम पंचायत की सरपंच अंतिमा नागर रात को घर पर सिलाई मशीन की मदद से मास्क बनाती है और सुबह जरूरतमंदों में निशुल्क वितरित करवा देती हैं। यह अब तक करीब 1500 मास्क बनाकर लोगों में बांट चुकी है।

कोरोना से जंग जीतकर ही लेंगे दम
सरपंच अंतिमा का कहना है कि लोगों को कोरोना संक्रमण से बचाने के लिए उन्होंने अन्य महिलाओं के साथ यह पहल शुरू की है। ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता के अभाव और अनुपलब्ध के कारण लोग मास्क का उपयोग नहीं करते हैं। जब तक कोरोना है तब तक आगे भी मास्क का वितरण जारी रहेगा। ग्राम पंचायत के दहीखेडा सहित पंचायत के गांव बणी, मोनपुर, जटेडी, जिठाना मे मास्क वितरण करवाया जा रहा है।

बाली देवी, सरपंच, बाटड़नाउ, सीकर
कोरोना संकट के बीच मास्क बनाकर बांटने वाली दूसरी सरपंच का नाम बाली देवी है, जो राजस्थान के सीकर जिले के लक्ष्मणगढ़ उपखंड की बाटड़नाउ ग्राम पंचायत की सरपंच हैं। बाली देवी अपनी बहू गणपति के साथ घर पर मास्क बना रही है। रोजाना करीब 350 लोगों को मास्क उपलब्ध करवा रही हैं।

मेरी पंचायत के लोगों की सुरक्षा मेरा जिम्मा
बाली देवी बताती हैं कि कोरोना वायरस से बचने का एक ही उपाय है मास्क और सोशल डिस्टेंसिंग। पूरी ग्राम पंचायत में सोशल डिस्टेंसिंग की पालना करवाने के साथ-साथ मैं खुद मास्क तैयार करने में जुटी हूं, क्योंकि मेरी ग्राम पंचायत के लोगों की सुरक्षा की जिम्मेदारी मेरी है।