भारत के इन दस शहरों में ना जाएं, पूरे परिवार को चुकानी पड़ सकती है भारी कीमत

पूरा देश इस समय कोरोना की चपेट में है। भारत में इस समय 1701 लोग कोरोना से संक्रमित हैं। जबकि 53 लोगों की मौत हो चुकी हैं। सरकार लोगों को घरों में ही रहने की अपील कर रही हैं।
ताकि इस खतरे से निपटा जा सके। आइये आज हम आपको बताते हैं भारत के दस सबसे सवेंदनशील इलाके कौन-कौन से हैं। जिसका इस समय कोरोना वायरस का गढ़ माना जा रहा है।

निज़ामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात, दिल्ली
सबसे पहले बात दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज की, जहां कोरोना फैलने से हड़कंप मच गया है। दिल्ली के निजामुद्दीन स्थित तबलीगी जमात के मरकज से निकले 10 जमातियों की मौत हो चुकी है। 700 जमातियों को क्वारनटीन किया गया है। 334 जमाती अस्पताल में हैं जिनमें से 24 कोरोना संक्रमित हैं।

दिलशाद गार्डन, दिल्ली
सऊदी से लौटी एक महिला का पहले 5 लोगों के साथ लिंक साबित हुआ था, इनमें दिलशाद गार्डन के रहने वाली महिला की दो बेटियां, महिला का भाई, मां और एक डॉक्टर शामिल थे।

12 मार्च से 18 मार्च के बीच दिलशाद गार्डन की ये महिला दिल्ली के मौजपुर में मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर से मिली थी। महिला से डॉक्टर को कोरोना हुआ, उसके बाद डॉक्टर ने भी करीब 100 से ज्यादा लोगों को देखा।

इसके बाद मोहल्ला क्लीनिक के डॉक्टर और सऊदी अरब से लौटी महिला जिन-जिन से मिले, ऐसे करीब 900 लोगों को क्वारनटीन किया गया।

नोएडा, उत्तर प्रदेश
नोएडा में कोरोना वायरस से संक्रमित लोगों की संख्या हर गुजरते दिन के साथ बढ़ती ही जा रही है। अब तक नोएडा में 37 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। ग्रेटर नोएडा के अस्पताल में भी कोरोना का मरीज मिला था, जिसके बाद उसे 3 दिनों के लिए सील कर दिया गया है।

मेरठ, उत्तर प्रदेश
27 मार्च को महाराष्ट्र के अमरावती से जिला बुलंदशहर के खुर्जा का रहने वाला एक शख्स मेरठ में ससुराल आया था। अमरावती में ये शख्स क्रॉकरी का काम करता है। मेरठ के सीएमओ का कहना है कि जब वो अमरावती से चला तो उसको बुखार था।

वह सीधा ससुराल पहुंचा जहां पर उसने एक शादी समारोह में हिस्सा लिया। इस व्यक्ति से पहले कोरोना इसकी पत्नी और तीन रिश्तेदारों में फैला। इसके बाद इस शख्स के 8 और रिश्तेदारों में कोरोना वायरस की रिपोर्ट पॉजिटिव आई। बीते 48 घंटों में मेरठ में 19 मरीज कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं।

मुंबई, महाराष्ट्र

महाराष्ट्र में मुंबई कोरोना का केंद्र बना हुआ है। सिर्फ मुंबई में अब तक संक्रमित 8 लोगों की मौत हो चुकी है। संक्रमितों की संख्या भी 93 तक पहुंच गई है। दक्षिण मुंबई के वर्ली कोलीवाडा इलाके में कोरोना संक्रमित चार मरीज मिले हैं। इसके बाद पुलिस ने इलाके को सील कर दिया है, पूरे इलाके को सैनिटाइज किया जा रहा है। मुख्यमंत्री उद्धव के बेटे आदित्य ठाकरे इस इलाके से विधायक हैं।

पुणे, महाराष्ट्र
महाराष्ट्र में कोरोना के मरीजों की संख्या 200 के पार पहुंच गई है। पुणे में 3 नए केस सामने आए हैं, जबकि पुणे में कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या 50 के पास पहुंच चुकी है। पुणे पुलिस ने अपील की है कि पुणे में कोई भी किसी को अप्रैल फूल नहीं बनाएगा। अगर कोई ऐसा करता पकड़ा गया तो उसे 6 महीने की जेल हो सकती है।

भीलवाड़ा, राजस्थान

राजस्थान के भीलवाड़ा में कोरोना वायरस फैला तो देश में हड़कंप मच गया। राजस्थान में 30 फीसदी से अधिक कोरोना के मामले भीलवाड़ा से ही हैं। राजस्थान में कोरोना पॉजिटिव की संख्या 83 है, जिनमें 26 भीलवाड़ा से हैं। भीलवाड़ा के 20 से ज्यादा होटल और रिजॉर्ट में 732 संदिग्धों को क्वारनटीन किया गया है।

अहमदाबाद, गुजरात

मरीजों की संख्या के नजरिए से देखें तो अहमदाबाद को ‘हॉटस्पॉट’ के रूप चिन्हित करने का कोई तुक नहीं है लेकिन यहां पांच संक्रमित लोगों में तीन की मौत हो चुकी है। मृत्यु दर 50% से अधिक होने पर इसे कोरोना ‘हॉटस्पॉट’ घोषित किया गया है। इससे पहले 21 साल की एक लड़की अहमदाबाद में कोरोना की जंग जीतकर लौटी तो उसका परिवारवालों ने वेलकम किया।

कासरगोड, केरल

केरल के कासरगोड़ में चीन के कोरोना केंद्र वुहान और दुबई से आए लोगों के कारण कोरोना का संक्रमण फैला। केरल का कासरगोड जिला वैसे अपने विदेशों से होने वाली आमदनी और पर्यटन के लिए जाना जाता है। जिला स्तर पर देखें तो यहां अब तक कोरोना के सबसे ज्यादा मरीज मिल चुके हैं, जिले में 165 से ज्यादा कोरोना पॉजिटीव केस की पुष्टि हो चुकी है। इस जिले को अब हाई अलर्ट पर रखा गया है।

पथनामथिट्टा, केरल

केरल के पथनामथिट्टा में भी 12 लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हुए हैं जबकि 24 लोगों को क्वारनटीन में रखा गया है। लेकिन केरल के पथनामथिट्टा में कोरोना के मरीज ठीक भी हुए हैं. 3 सदस्यों का एक परिवार यहां इटली से आया था, जिसमें दो लोग कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे, लेकिन अब वो ठीक हो चुके हैं, और उन्हें अस्पताल से डिस्चार्ज कर दिया गया है।