बेटा और बेटी को हुआ कोरोना, तो महिला अपने पति के साथ भागी अपने मायके!

मध्यप्रदेश में कोरोना मरीजों की संख्या 216 पहुंच गई है। इंदौर में 135 तो भोपाल में 41 कोरोना पॉजिटिव है। कोरोना के कहर के बीच लोगों में डर भी बढ़ता जा रहा है। ऐसा ही एक मामला इंदौर में भी सामने आया है, जहां एक दंपति के बेटा-बेटी कोरोना से संक्रमित हैं। दोनों अस्पताल में भर्ती हैं लेकिन परिवार के लोगों को प्रशासन ने इसकी जानकारी नहीं दी है।
महिला और उसके पति को लगा कि बेटों के बाद प्रशासन के लोग हमें भी क्वारेंटाइन सेंटर में रख देंगे या फिर होम क्वारेंटाइन करेंगे। डर से दोनों शनिवार की रात तीन बजे इंदौर से घर छोड़ भाग गए। महिला अपने पति को लेकर पैदल ही इंदौर से रविवार को सुबह उज्जैन पहुंच गई। यहां पहुंचने के बाद मायके के लोगों ने भी उसे घर में नहीं घुसने दिया। उसके बाद गांव के ही एक पेड़ के नीचे निलोफर नाम की महिला कुछ देर तक बैठी रही।

निलोफर बहुत उम्मीद लिए पति के साथ मायके गई थी। उसे उम्मीद थी कि अम्मी मुझे घर में जगह देगी। वहां पहुंचने के बाद उनलोगों ने घर में घुसने नहीं दिया और कहा कि तुमलोगों की वजह से हम सब मुसीबत में पड़ जाएंगे। उसके बाद यह दंपति उज्जैन शहर में ही भटकता रहा। उसके बाद दोनों को एक परिचित ने थाने पहुंचाया और घटना के बारे में जानाकारी दी।

पुलिस ने फिर दोनों को पकड़कर अस्पताल भिजवाया। बताया जा रहा है कि महिला और उसके पति में भी कोरोना के लक्षण दिखाई दिए हैं, लेकिन बिना जांच के ही दोनों इंदौर से फरार हो गए थे। दंपति इंदौर के टाटपट्टी बाखल के पास कागजी मोहल्ला किराए के मकान में रहता था। उस इलाके और घर को प्रशासन ने सील कर दिया है। बताया जा रहा है कि इन दोनों में भी कोरोना के लक्षण दिख रहे हैं। उज्जैन स्थित जीवाजीगढ़ थाने को भी इनके जाने के बाद सैनेटाइज करवाया गया है।

महिला ने कहा कि हमारे बच्चों को कोरोना है, सभी को इंदौर पुलिस की टीम ले गई है। किस अस्पताल में भर्ती करवाया, इसके बारे में हमें जानकारी नहीं है। हमें भी घर के अंदर बंद करते या अस्पताल ले जाते, इसलिए हमलोग बहुत डर गए। मैं घबराकर पति इनायत हुसैन के साथ वहां से रात तीन बजे पैदल चल दी। सुबह आठ बजे उज्जैन पहुंच गए। यहां पहुंचे तो अम्मी ने घर में नहीं घुसने दिया।

इंदौर के जिस मकान में निलोफर अपने पति इनायत के साथ रहती थी, उस घर का मालिक भी कोरोना से संक्रमित था। जिसकी तीन दिन पहले मौत हो गई है। उसी की मैय्यत में दोनों कब्रिस्तान गए थे और वहां से उज्जैन भाग गए। महिला के पति ने दो शादी की है। पहली पत्नी से इनायत के तीन बेटे हैं और वह सब उज्जैन में रहते हैं। लेकिन उनलोगों ने भी घर में मां-पिता को आने नहीं दिया।