लॉकडाउन का उल्लंघन और स्वास्थ्यकर्मियों से बदसलूकी अब और बर्दाश्त नहीं, सीधे गोली मारने का आदेश: फिलीपिंस

यह पहली बार नहीं है जब रोड्रिगो डूटर्ट ने देशवासियों को गोली मारने का आदेश दिया हो। साल 2016-17 में राष्ट्रपति ने ड्रग डीलर्स को बिना कानूनी कार्रवाई के मारने का आदेश दिया था।

फिलीपींस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो डूटर्ट 
कोरोना वायरस से अपने देश की जनता को बचाने के लिए फिलीपिंस के राष्ट्रपति रॉड्रिगो डूटर्ट ने लॉकडाउन के नियमों का उल्लंघन करने वालों और स्वास्थ्यकर्मियों के साथ दुर्व्यव्हार करने वालों को चेताया है। उन्होंने ऐसे मनमानी करने वाले लोगों के लिए साफ शब्दों में कहा है कि उन्हें उनकी इन हरकतों के लिए गोली मारी जा सकती है। और इसके लिए उन्होंने सुरक्षाकर्मियों को आदेश दे दिए हैं।

बता दें देश के नाम संबोधन में फिलीपींस (Philippines) के राष्ट्रपति ने कहा कि चिकित्सा अधिकारी दिन रात मेहनत कर रहे हैं। वह देश के कोरोना के संक्रमण को कम करने में दिन रात लगे हैं ऐसे में जो भी लोग सरकार की बात नहीं मानेंगे और लॉकडाउन को तोड़ने का प्रयास करेंगे उसे गंभीर अपराध माना जाएगा। मैंने पुलिस और सेना को आदेश दिया है कि अगर कोई व्यक्ति बात नहीं माने तो ऐसे लोगों को गोली मार दी जाए।

जानकारी के मुताबिक, फिलीपींस में अभी तक कोरोना के कारण 96 लोगों की जान जा चुकी है। इसके अलावा वहाँ संक्रमितों की संख्या 2300 से भी ज्यादा हो चुकी है। सरकार कोरोना से निपटने के लिए पूरी कोशिश कर रही है। इन्ही कोशिशों का नतीजा है कि पिछले 3 हफ्तों में वहाँ केवल कोरोना के 3 मामले सामने आए हैं जो इस बात की पुष्टि करते है कि फिलीपींस कोरोना से लड़ाई जीत रहा है।

हालाँकि, राष्ट्रपति के इस ऐलान के बाद कुछ एक्टिविस्ट उनकी आलोचना कर रहे हैं। उनके बयान को हिंसक बता रहे हैं और कह रहे हैं कि यही सब ड्रग्स के खिलाफ शुरू हुई जंग के दौरान उन्होंने किया था, वे वैसा ही दोबारा कर रहे हैं। उस समय भी पुलिसवालों ने हजारों लोगों को मार दिया था और अब भी यही आदेश दे रहे हैं। जबकि पुलिस ने एंटी-ड्रग अभियान के तहत लिए सभी एक्शन को कानूनी बताया था और इस बार भी राष्ट्रपति के बयान के आने के बाद राष्ट्रीय पुलिस प्रमुख ने गुरुवार को कहा कि पुलिस समझ रही है कि डुटर्ट ने सार्वजनिक व्यवस्था को लेकर अपनी गंभीरता का प्रदर्शन किया। हालाँकि, उन्होंने आश्वस्त किया कि किसी को गोली नहीं मारी जाएगी।

दरअसल, यह पहली बार नहीं है जब रोड्रिगो डूटर्ट ने देशवासियों को गोली मारने का आदेश दिया हो। साल 2016-17 में राष्ट्रपति ने ड्रग डीलर्स को बिना कानूनी कार्रवाई के मारने का आदेश दिया था।

बता दें फिलीपींस में इस समय 2311 से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हैं। वहीं, 96 लोगों की मौत हो चुकी है। 12 मार्च के आसपास राष्ट्रपति रोड्रिगो डूटर्ट ने भी कोविड-19 की जाँच कराई थी। वह निगेटिव निकले थे। हालाँकि, एहतियात के तौर पर वह खुद सेल्फ आइसोलेशन में चले गए थे। इसके अलावा फिलीपींस के संसद और केंद्रीय बैंक को भी क्वारंटीन किया गया था। राष्ट्रपति के प्रवक्ता सेल्वाडोर पनेलो ने कहा था कि हमारे स्वास्थ्य अधिकारियों की सलाह पर हमने सुरक्षा के लिए सभी कदम उठाए हैं।