गाजियाबाद में जमाती अब नर्सों से बोले- हैदराबाद चलो, वहां जन्नत की सैर कराउंगा

गाजियाबाद के एमएमजी अस्पताल के महिला नर्सिंग कर्मियों के साथ अभद्रता का मामला अभी ठंडा भी नहीं हुआ कि अब जमातियों ने सुंदरदीप आयुर्वेदिक कालेज के महिला कर्मियों के साथ अभद्रता कर दी है। जमाती महिला नर्सिंग कर्मियों को देखकर फब्तियां कस रहे हैं। कह रहे हैं कि हैदराबाद चलो, वहां जन्नत की सैर कराएंगे। कई महिला नर्सिंग कर्मियों ने शिकायत दी है।
जिला प्रशासन को भेजे शिकायत में कॉलेज प्रबंधन ने बताया कि सभी आरोपी मरकज से निकले हैं और ये तरह तरह से नर्सिंग कर्मियों के साथ अभद्रता कर रहे हैं। गौरतलब है कि स्वास्थ्य विभाग ने कोरोना संदिग्धों को सुंदरदीप आयुर्वेदिक चिकित्सालय में भी भर्ती कराया है। ऐसे मरीजों के लिए इस कॉलेज को कोविड-19 अस्पताल में परिवर्तित किया है। यहां आइसोलेसन वार्ड के अलावा कोरोंटाइन वार्ड भी बनाए गए हैं। इसमें निजामुद्दीन मरकज और अन्य जमातों से लौटे जमातियों को बड़ी संख्या में रखा गया है। 

यहां कार्यरत महिला चिकित्सकों, स्टाफ नर्सों और एएनएम सहित अन्य महिला स्टाफ से इनके द्वारा लगातार अभद्रता की जा रही है। कुछ अराजक जमाती इन्हें कभी हैदराबाद चलने की कहते हैं तो कभी कहीं और जन्नत दिखाने की बात करते हैं। उपचार के दौरान इन्हें हाथ लगाने की कोशिश करते हैं। इन्हें देखकर सीटी बजाते हैं । इसके अलावा भी कई प्रकार की अभद्रता इन महिला स्टाफ के साथ की जा रही है। एमएमजी अस्पताल के बाद अब यहां की महिला स्टाफ ने स्वास्थ्य अफसरों के अलावा प्रशासनिक अफसरों से शिकायत की है। प्रशासन द्वारा इनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की तैयारी की जा रही है।

डॉ एनके गुप्ता, सीएमओ, गाजियाबाद का कहना है कि सुंदरदीप आयुर्वेदिक चिकित्सालय में महिला स्टाफ के साथ अभद्रता की सूचना मिली है। पूरे मामले की जांच कराई जा रही है। मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी। महिला स्टाफ के साथ अभद्रता बर्दाश्त नहीं की जाएगी। इसके अलावा विभिन्न जमातों से लौटे करीब दो दर्जन से अधिक जमाती कोरोंटाइन वार्ड में भर्ती किए गए हैं।

स्टाफ नर्स की जगह होगा वार्ड ब्यॉय
महिला स्टाफ के साथ बढ़ती अभद्रता को देखते हुए यहां ड्यूटी कर रहीं स्टाफ नर्सों की जगह वार्ड ब्यॉय को लगाया जाएगा। सीएमओ ने जारी निर्देशों में कहा है कि जहां महिला मरीज और बुजुर्ग मरीज भर्ती हैं, वहां ही महिला स्टाफ की ड्यूटी लगाई जाए। जहां कम उम्र के जमाती और युवक हैं, वहां वार्ड ब्यॉय की ड्यूटी लगाई जाए।