लॉकडाउन में सामान लाने का जो तरीका इन लोगों ने निकाला है, उसको पूरे देश को अपना लेना चाहिए

अभी सब तरफ इसी की चर्चा है. भारत में भी कोरोना के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं. COVID-19 के मरीज़ों का आंकड़ा 500 पार कर गया है. कोरोना को रोकने के लिए सरकार ने पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया है. 21 दिन के लिए. लॉकडाउन यानी बहुत जरूरी सुविधाओं को छोड़कर बाकी सब बंद कर दिया गया है. लोगों से घरों में ही रहने को कहा गया है. इन सबके बीच राजस्थान के एक छोटे से शहर ने जो किया है वो देश के बाकी गांवों, कस्बों और शहरों के लिए नज़ीर साबित हो सकता है.
राजस्थान का भरतपुर जिला. यहां बयाना तहसील है. कोरोना वायरस के चलते यहां पर भी लॉकडाउन लागू है. लेकिन लोग सामान खरीदने के लिए घरों से निकल रहे थे. ऐसे में स्थानीय पत्रकार राजीव शर्मा ने सोशल मीडिया के जरिए लोगों से लॉकडाउन का पालन करने को कहा. उन्होंने फेसबुक पर अपील की, लिखा,

“अगर बाजार से किसी चीज की आवश्यकता है तो घर से बाहर मत निकलिए. इसके बजाए फोन कर अपनी जरूरत बताएं. हम लोग आपके घर आकर सामान देकर जाएंगे. आपकी मदद करेंगे. आप भी अपने-अपने गली मोहल्लों में वॉलिंटियर की भूमिका निभा सकते हैं.” इसके साथ उन्होंने गली-मोहल्लों के हिसाब से वॉलिंटियर करने वाले लोगों के नाम और मोबाइल नंबर लिखे.