लॉक डाउन: धज्जियां उड़ाकर निकाली गई रथ यात्रा, पुलिस पर भारी पथराव

कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे को देखते हुए पूरे देश को लॉकडाउन कर दिया गया है। लेकिन कुछ लोग की लापरवाही की वजह से लोगों की जान खतरे में पड़ सकती है। जगह-जगह लॉकडाउन का उलंघ्घन के मामले सामने आ रहे है। ऐसा ही एक मामला महाराष्ट्र के सोलापुर से आ रही है जहां लॉकडाउन का को तोड़ते हुए रथयात्रा निकाली गयी और जब पुलिस ने रोकने की कोशिश की तो श्रद्धालु भक्तों ने पथराव शुरु कर दिया।

निकाली जा रही थी शोभयात्रा
महाराष्ट्र के सोलापुर के गांव वागदरी में कुल देवता का पांच दिवसीय त्योहार मनाया जाता है। कुल देवता को स्थानीय लोग ग्राम देवता परमेश्वर कहते हैं। इस दौरान पूजा, पाठ, हवन, अनुष्ठान और शोभायात्रा जैसे कार्यक्रम होते हैं। वागदरी गांव में भी सब कुछ बंद था लेकिन रथयात्रा के नाम पर बड़ी संख्या में गांव वाले इकट्ठा होने लगें और पूजा पाठ के साथ ही भजन कीर्तन शुरु हो गया। पुलिस को सूचना मिली तो तुरंत वहां पहुंच कर इस रथयात्रा को रोकने की कोशिश करने लगी। इस पर भक्तजन आक्रोशित हो गए और पुलिस पर पथराव शुरु कर दिया। इस पथराव में बड़ी संख्या में पुलिसकर्मी घायल हो गए है। रथयात्रा में पथराव करने वाले 100 से ज्यादा भक्तों पर मामला दर्ज किया गया है और करीब 22 श्रद्धालुओं को हिरासत में ले लिया गया है।
इससे पहले 02 अप्रैल को रामनवमी के दौरान तेलंगाना से जो तस्वीरे सामने आईं, वो अपने आप में निराशाजनक थी। तेलंगाना सरकार के दो वरिष्ठ मंत्रियों अलोला इंद्रकरण रेड्डी और पी अजय कुमार रामनवमी के अवसर पर मंदिर में अपने परिवार समेत पूजा पाठ करने पहुंच गए, जिसकी वजह से मंदिरों में काफी भीड़ जमा हो गई थी।
मंत्रियों की तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हुई तो काफी आलोचना हुई। पी अजय कुमार तेलंगाना सरकार में परिवहन मंत्री हैं तो अलोला इंद्रकरण रेड्डी वन एंव पर्यावरण मंत्री का दायित्व संभाल रहे हैं।