देह व्यापार के लिए बदनाम शिवपुरी में ‘ स्मैक ‘ का धंधा बहुत जोरों पर, लड़कियों को भी लगी इसकी लत….

शहर में नशे का कारोबार जितनी तेजी से फल-फूल रहा है, उतनी ही रफ्तार से युवा इसकी गिरफ्त में आते जा रहे हैं। अभी तक तो युवक ही इस नशे के आदी हो रहे थे, मगर अब तो युवतियां भी इसके शिकंजे में फंसती जा रही हैं। एक ओर जहां स्मैक का चलन बढ़ा है, वहीं नशे के इंजेक्शन भी बेरोकटोक धड़ल्ले से बेचे जा रहे हैं। शहर के कमलागंज व फतेहपुर क्षेत्र में खुले मेडिकल स्टोरों पर 11 रुपए का यह इंजेक्शन 50 रुपए में उपलब्ध कराया जा रहा है। बताया तो यहां तक जाता है कि कई युवा नशे के इतने आदी हो गए हैं कि वे स्मैक को इंजेक्शन में मिलाकर उसे अपनी नसों में भर रहे हैं।
गौरतलब है कि पिछले डेढ़ वर्ष से शिवपुरी शहर में स्मैक की खपत इस कदर बढ़ी है कि गुना व राजस्थान क्षेत्र से बड़ी मात्रा में यह नशा शिवपुरी पहुंचने लगा। जो युवा एक बार इसका आदी हो गया तो फिर उसके लिए इससे दूर जाना कठिन हो जाता है। नशे की मांग अभी तक कॉलेज स्टूडेंट्स की रहती थी, लेकिन अब यह स्कूलों के आसपास भी पहुंचने लगा है।

पिछले कुछ महीनों में पुलिस ने करीब दो दर्जन से अधिक लोगों को स्मैक के साथ पकड़ा है। बताया जाता है कि जो एक बार ड्रग लेता है तो फिर वो इसका इतना आदी हो जाता है कि उसे पाने के लिए वो न केवल अपने घर में ही चोरी करता है, बल्कि ड्रग सप्लाई में भी शामिल हो जाता है। पुलिस की नजर में अभी तक पुरुष कारोबारी ही नजर में आए, मगर अब यह खुलासा भी हो गया कि शहर की युवतियां व महिलाएं भी ड्रग एडिक्ट होने के साथ-साथ उसकी सप्लाई भी कर रही हैं।

महत्वपूर्ण बात यह है कि इस रैकेट में कहीं न कहीं पुलिस के कुछ कर्मचारी भी शामिल हैं, जिसके कारण यह धंधा बेरोकटोक फल-फूल रहा है। देहात थाने में पदस्थ आरक्षक विजय रावत का नाम भी कईबार इस कारोबार से जुड़े लोगों के साथ होने की शिकायतें पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों तक पहुंचीं। पुलिस ने हर बार अभियान चलाकर केवल नशा करने वालों को पकडकऱ उनसे बहुत कम मात्रा में स्मैक जब्त की, जबकि नशा लाने वाले रैकेट पर कभी हाथ नहीं डाला। गौरतलब है कि शिवपुरी शहर में इन दिनों एविल के इंजेक्शन को नशे के रूप में लिया जा रहा है। यह इंजेक्शन 10 एमएल का 11 रुपए में बिकता है, जिसे सिर्फ डॉक्टर के पर्चे पर ही दिया जा सकता है। लेकिन यह इंजेक्शन कई मेडिकल स्टोरों पर 50 रुपए में बिना किसी पर्चे के नशेडिय़ों को बेचा जा रहा है।