दोनों भाइयों में था बड़ा प्रेम, एक साथ टूटी सांसें

दो मासूम भाइयों की बागै नदी में डूबकर मौत की घटना ने हर किसी को झकझोर रख दिया। उम्र में ज्यादा अंतर न होने से दोनों भाइयों में बड़ा प्रेम था। एक साथ दोनों खेलकर बड़े हो रहे थे। दोनों की एक साथ अंतिम सांसे टूट गईं। दोनों की मौत से स्वजनों पर दुख का पहाड़ टूट पड़ा है।
थाना क्षेत्र के ग्राम शिवहारी लमेहटा निवासी रामसुफल यादव के दो मासूम पुत्र 8 वर्षीय अंकुश व 10 वर्षीय अंशू की गुरुवार को बागै नदी में नहाते समय एक साथ डूबकर मौत हो गई थी। उनके रिश्ते के बाबा मूलचंद्र व अन्य स्वजनों ने बताया कि दोनों के उम्र में ज्यादा अंतर नहीं था। इससे सुबह सोकर उठते ही दोनों साथ खेलने लगते थे। ज्यादातर एक साथ खाना खाने बैठते थे। 

यहां तक की दोनों भाई गांव से एक किलो मीटर दूर स्थित प्राथमिक विद्यालय लमेहटा में कक्षा एक व दो में पढ़ते थे। इससे दोनों एक साथ स्कूल भी जाते थे। जबकि उनका तीसरा बड़ा भाई राहुल 12 वर्ष का है। तीन भाइयों में दो की मौत होने से स्वजनों के आंसू नहीं थम रहे हैं। मां मंजू तो बच्चों के शव देखकर कई बार गश खाने से बेहोश हो गई।

तैरना नहीं जानते थे दोनों भाई

बागै नदी में जिन दोनों भाइयों की एक साथ जलसमाधि बनी है। स्वजनों ने बताया कि वह दोनों हमेशा अपने मवेशियों को लेकर नदी की ओर जाते थे। लेकिन दोनों में कोई भी ठीक से तैरना नहीं जानते थे। इसी के चलते दोनों की डूबकर मौत हो गई है।

चार मीटर की दूरी में मिले दोनों भाइयों के शव

पानी में खोजबीन कर गोताखोरों को सबसे पहले छोटे भाई का शव मिला था। इससे अंदाजा हो गया था कि दूसरा भी इसी के आसपास होगा। करीब चार मीटर दूरी पर काफी प्रयास करने के बाद दूसरे भाई का शव मिला है।