प्रेमी-प्रेमिका हत्याकांड: साहब! हां हमने ही दोनों को मारा...,क्या करते इज्जत नीलाम हो रही थी

लखनऊ के सआदतगंज के मंसूरनगर में शनिवार देर रात को युवती के परिजनों ने प्रेमी युगल मोहम्मद अब्दुल मलिक (34) व सूफिया (20) को लाठी-डंडे से पीटकर व ईंट से कूंचकर मार डाला। दोहरे हत्याकांड की सूचना पर पुलिस महकमे में हड़कंप मच गया। आनन-फानन में दोनों शव पोस्टमार्टम को भेजे गए। वहीं, पुलिस ने तड़के युवती के पिता व ताऊ समेत चार आरोपियों को दबोच लिया।
जबकि एक फरार है। पुलिस के मुताबिक, हत्या प्रेम प्रसंग में हुई है। युवती के परिजन दोनों को रोक चुके थे। लेकिन दोनों का मिलना जारी था। पुलिस जांच कर रही है। पुलिस के मुताबिक, पोस्टमार्टम के बाद युवक का शव परिजनों को सौंप दिया। जबकि युवती के परिजन शव लेने नहीं गए।

थाने में कहा... हमने मारा क्या करते...
गिरफ्त में आए चारों हत्या आरोपियों ने जुर्म कबूल कर लिया है। युवती के पिता और ताऊ ने कहा कि साहब हां हमने ही दोनों को मारा...। क्या करते मोहल्ले में हमारी इज्जत नीलाम हो रही थी। लोग ताने दे रहे थे। दोनों को कई बार मना किया गया, लेकिन वह अपनी जिद पर अड़े थे।
पुलिस ने कानून का सहारा लेने की बात कही। इस पर पिता ने कहा कि साहब पुलिस क्या करती। लड़की ही जब उसके पक्ष में खड़ी थी। रोते हुए पिता ने कहा कि युवती का निकाह भी कर दिया था, लेकिन उसे मंजूर नहीं था। इसे लेकर कुछ दिनों से घर में काफी हंगामा कर रही थी।

बाइक व आला कत्ल बरामद
एडीसीपी पश्चिम के मुताबिक, हत्या में इस्तेमाल तीन आला कत्ल डंडे, खून से सनी ईंट, युवक की बाइक व मोबाइल बरामद कर लिया गया है। दोहरे हत्याकांड का खुलासा करने में अतिरिक्त प्रभारी निरीक्षक रमेश सिंह यादव, एसआई राजेश सिंह, चंद्रप्रकाश यादव, ओमकारनाथ यादव, ओमपाल सिंह, महिला कांस्टेबल मोनिका यादव, सावित्री, कांस्टेबल अवनीश कुमार, देवेश कुमार व राहुल वर्मा ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।