Lockdown के दौरान बैंक का कैशियर 22 लाख लेकर फरार, शाखा प्रबंधक ने दर्ज कराई एफआईआर

लॉकडाउन के बीच एक बैंक की शाखा में काम करने वाला कैशियर 22 लाख लेकर फरार हो गया। पहले तो बैंक कर्मचारियों ने कैशियर का काफी देर तक इंतजार किया। उसके मोबाइल पर फोन मिलाया। घटना को पुलिस से भी घंटों छिपाकर रखा गया। इसके बाद देर शाम घटना की जानकारी पुलिस को दी गई।
मामला थाना किठौर के कस्बा स्थित इलाहाबाद बैंक का है। जहां पर काम करने वाला कैशियर 22 लाख रुपये लेकर फरार हो गया। जानकारी होने पर बैंक पहुंची थाना पुलिस ने सूचना के बाद जांच पड़ताल की। उसके बाद शाखा प्रबंधक ने आरोपी कैशियर के खिलाफ इसकी रिपोर्ट दर्ज करा दी। आरोपी कैशियर का मोबाइल भी स्विच ऑफ आ रहा है। बैंक से 22 लाख लेकर फरार होने की घटना से बैंक में हड़कंप मचा हुआ है। पुलिस और बैंक के उच्च अधिकारी मामले की जांच कर रहे हैं।

इलाहाबाद बैंक, किठौर के शाखा प्रबंधक बाबूराम मौर्या ने बताया कि मंगलवार को बैंकिंग कार्य सुबह 10 बजे से 2 बजे तक था। शाखा में गढ़मुक्तेश्वर निवासी अनिल कुमार कैशियर के पद पर कार्यरत है। दोपहर लगभग एक से डेढ़ बजे तक वह पैसे का लेनदेन करता रहा। इस बीच दो से तीन बार शाखा से अंदर- बाहर गया। करीब दो बजे के बाद वह बैंक से बाहर गया, लेकिन वापस नहीं लौटा। शाखा प्रबंधक ने बताया कि उन्होंने अनिल को फोन किया, लेकिन मोबाइल बंद था। इसके बाद बैंक में जमा पैसों का मिलान किया तो पता चला कि जमा में 21 लाख 90 हजार रुपये कम हैं। सूचना पर पहुंची पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज देखी तो अनिल कई बार जेब में रुपये रखते हुए दिखाई दिया। इसके बाद शाखा प्रबंधक ने इसकी जानकारी अपने आलाधिकारियों को दी।

इसके बाद शाखा में मेरठ से बैंक के एजीएम राजीव खन्ना, चीफ मैनेजर आरपी सिंह और सिक्योरिटी हेड मेजर राजीव गौड़ भी शाखा पहुंचे और जानकारी ली। कैशियर का काफी पता करने के बाद भी जब उसका कहीं पता नहीं चल सका तो इस संबंध में पुलिस को जानकारी दी गई। बैंक शाखा पहुंची पुलिस को कैशियर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज की तहरीर दी गई है। इंस्पेक्टर किठौर रोजंत त्यागी ने बताया कि कैशियर के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कर ली गई है। उसका मोबाइल सर्विलांस पर लगा दिया गया है। आरोपी कैशियर के घर पर दबिश दी गई, लेकिन वह घर पर भी नहीं मिला। आरोपी की तलाश जारी है।