राजधानी दिल्ली में कोरोना के मामले चीन के बराबर, 27 हजार से अधिक एक्टिव मामले बढ़ा रहे चिंता!

देश की राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के मामलों की रफ्तार तेज़ी से बढ़ती जा रही है. पिछले करीब दस दिनों में जब से दिल्ली में टेस्टिंग को बढ़ाया गया है, तभी से हर रोज तीन हजार से अधिक मामले सामने आ रहे हैं. हालात ये हो गए हैं कि मौजूदा वक्त में दिल्ली में करीब चीन के जितने कोरोना वायरस के मामले हो गए हैं.
रविवार रात को जारी दिल्ली सरकार के मेडिकल बुलेटिन के मुताबिक, दिल्ली में अब कोरोना वायरस के कुल 83077 मामले हैं. इनमें से करीब 27 हजार मामले एक्टिव हैं, जबकि अबतक राजधानी में 2623 लोगों की मौत हो चुकी है.
अब अगर चीन से तुलना करें, तो रविवार तक चीन में कोरोना वायरस के कुल मामले 83,512 हैं जो दिल्ली से कुछ ही ज्यादा हैं और सोमवार को ये आंकड़ा भी पार हो सकता है. वहीं चीन में अबतक इस महामारी की वजह से कुल 4600 लोगों की जान चली गई है.
दिल्ली के लिए चिंता की बात ये है कि कुल 80 हजार मामलों में से करीब 40 फीसदी के करीब मामले अभी भी एक्टिव हैं. दिल्ली में अभी कुल एक्टिव केस 27827 हैं. इनमें कुछ कम लक्षण वाले तो कुछ सीरियस भी हैं. राजधानी में पिछले करीब दस दिनों से टेस्टिंग की रफ्तार को बढ़ाया गया है. पहले जहां करीब चार-पांच हजार टेस्ट रोज हो रहे थे, अब औसतन रोज 16-17 हजार टेस्ट हो रहे हैं.
यही कारण है कि मामलों में अचानक तेज़ी आई है. दूसरी ओर कुछ वक्त पहले जो दिल्ली के उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने बयान दिया था कि जिस रफ्तार से दिल्ली में केस बढ़ रहे हैं वैसे ही जारी रहा तो जुलाई के अंत तक साढ़े पांच लाख केस होंगे. उस पर अब केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा है कि अब वैसी स्थिति नहीं आएगी, क्योंकि टेस्टिंग बढ़ाकर दिल्ली में अब ट्रेसिंग की जा रही है ताकि कोरोना वायरस के मामलों को बढ़ने ना दिया जाए.