नेपाल होते हुए बिहार में घुसे जैश-ए-मोहम्मद के 6 आतंकी, बिहार पुलिस की स्पेशल ब्रांच ने जारी किया अलर्ट!

नेपाल से जारी तनातनी के बीच उसी की जमीन के रास्ते बिहार में जैश-ए-मोहम्मद के 6 से अधिक आतंकियों के देश में दाखिल होने की सूचना मिली है. पुलिस मुख्यालय के सूत्रों के मुताबिक, स्पेशल ब्रांच के SP ने मुजफ़्फ़रपुर सहित उत्तर बिहार के लगभग सभी जिलों को एक अलर्ट जारी किया है. अलर्ट में इस बात का उल्लेख किया गया है कि नेपाल के रास्ते बिहार में जैश-ए-मोहम्मद के 6 से अधिक आतंकी दाखिल हुए हैं. सभी पाकिस्तानी सेना से प्रशिक्षित हैं. इस अलर्ट के साथ-साथ स्पेशल ब्रांच के SP ने उत्तर बिहार के तमाम SP को कई दिशा-निर्देश भी जारी किये हैं. जानकारी के मुताबिक आतंकियों के निशाने पर बिहार समेत देश के कई राजनेता और प्रमुख सावर्जनिक स्थल हैं.
इससे पहले भी मार्च में कुछ इसी तरह का अलर्ट SSB के द्वारा जारी किया गया था. उस अलर्ट में भी नेपाल के रास्ते बिहार में 150 से अधिक वैसे लोगों के बिहार में दाखिल होने की सूचना दी गई थी, जो बिहार में आकर लोगों को कोरोना संक्रमित कर सकते हैं. सूचना को देखते हुए बिहार पुलिस ने नेपाल से सटे तमाम बॉर्डर इलाकों पर सुरक्षा बढ़ा दी थी. CCTV से निगरानी की जाने लगी थी. यहां तक कि सीमावर्ती इलाकों में ATS को तैनात कर दिया गया था और इस पूरे सूचना का केंद्र जिस व्यक्ति को बताया गया था, उसके नेपाल स्थित ठिकानों पर नेपाल पुलिस के द्वारा छापेमारी भी की गई थी.

पीएम नरेंद्र मोदी की रैली में हुआ था आतंकी हमला

गौरतलब है कि 27 अक्टूबर 2013 को पटना के गांधी मैदान में उस वक़्त ब्लास्ट हुआ था, जब नरेंद्र मोदी एक जनसभा को संबोधित कर रहे थे. आतंकियों ने पटना के बीचो-बीच स्थित गांधी मैदान में एक साथ 5 सीरियल ब्लास्ट कर पूरे देश में दहशत फैला दिया था. हालांकि, महज चंद दिनों के अंदर इस ब्लास्ट के तार बिहार पुलिस और NIA ने सुलझा लिया था. इसके बाद बोधगया स्थित महाबोधी मंदिर को भी आतंकियों ने अपना निशाना बनाया था.

अलर्ट हुआ पुलिस महकमा

आतंकी संगठन से जुड़े लोग बिहार को अपना सॉफ्ट टारगेट बनाये हुए हैं. वो लगातार इस कोशिश में लगे रहते है कि अपने मंसूबे में कामयाब हो जाएं. बहरहाल अब यहां यह देखना बेहद अहम होगा कि इस बार जो जो अलर्ट स्पेशल ब्रांच के द्वारा जारी किया गया है उसमें कितनी सत्यता है और अगर ऐसा है तो बिहार पुलिस कब तक जैश के उन आतंकियों को दबोचने में कामयाब हो पाएगी जो भारत पर नापाक नजर डाले हुए है.