अपनों ने सताया तो हिंदू शख्स बना सहारा, शादी रचाकर पेश की प्यार की अनोखी मिसाल!

सीधी में पहली बार दो अलग अलग धर्मों के युवक-युवती ने शादी रचाकर अपने आप में मिशाल कायम की है। युवक और युवती ने एक दूसरे के साथ जीने मरने की कसम खाते हुए गायत्री मंदिर से शादी रचाई। शिवसेना के साथ पहुंचे दोनों दूल्हा और दुल्हन ने एक दूसरे को जय माला पहनाकर साथ जीने और मरने की कसम खाई।
इस अनोखी शादी में रबिया खान और सूर्य प्रकाश शर्मा आज शादी के पवित्र बंधन में बंध गए। दोनों ने गायत्री मंदिर में एक दूसरे को जयमाला पहना कर जीवन भर साथ निभाने की कसमें खाई। सूर्य प्रकाश ने रविया खान की मांग में सिंदूर भरकर रविया खान को जिंदगी भर के लिए अपना लिया। दरअसल रबिया खान की शादी उसी के समाज के एक युवक से हो चुकी है और उसका एक बच्चा भी है लेकिन पति की प्रताड़ना और मायके वालों की गैर जिम्मेदारना रवैया के चलते रबिया खान परेशान हो गई थी।
रबिया ने बताया कि उसका पति आए दिन मारपीट करता था 1 दिन अधमरा छोड़कर भाग गया था। तब सूर्य प्रकाश ने उसे सहारा दिया तब से हम दोनों ने एक दूसरे के होने का वादा किया और शादी रचा ली। इसके साथ ही वह हिंदू धर्म अपनाकर सूर्य प्रकाश शर्मा से शादी रचाकर प्रियंका शर्मा बन गई है। पीड़िता द्वारा मदद मांगने पर शिवसेना ने भूमिका निभाते हुए 2 लोगों को जीवन भर के लिए एक सूत्र में बांध दिया है शादी के बाद जोडा काफी खुश नजर आ रहा है।