रानी लक्ष्मीबाई की पुण्यतिथि पर देश कर रहा याद, अमित शाह और कांग्रेस ने दी श्रद्धांजलि!

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में अंगेजी हूकुमत से लोहा लेने वाली रानी लक्ष्मी बाई को उनके पुण्यतिथि पर पूरा देश उन्हें याद कर रहा है। गृह मंत्री अमित शाह ने ट्वीट करके उन्हें श्रद्धांजलि दी। उन्होंने ट्वीट करके लिखा, ' रानी लक्ष्मीबाई ने अपनी असाधारण वीरता और साहस से राष्ट्रभक्ति का एक नया अध्याय लिखा। वह नारी शक्ति और अंग्रेज़ी शासन के विरुद्ध क्रांति का प्रतीक बनी। स्वाधीनता व स्वाभिमान के लिए उनका बलिदान अनंत काल तक पूरे विश्व को प्रेरित करता रहेगा। ऐसी महान वीरांगना को कोटि-कोटि नमन।'
कांग्रेस ने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट करके कहा, '1857 के स्वतंत्रता संग्राम के दौरान झांसी की रानी लक्ष्मीबाई ब्रिटिश राज के खिलाफ प्रतिरोध का प्रतीक बन गईं। हम दमनकारी ताकतों के खिलाफ लड़ाई में लाखों भारतीयों को प्रेरित करने के लिए उन्हें हार्दिक श्रद्धांजलि देते हैं।'

जेपी नड्डा ने दी श्रद्धांजलि

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष जेपी नड्डा ने ट्वीट करके कहा, 'अदम्य साहस, शौर्य और देशभक्ति की प्रतिमूर्ति, नारी अस्मिता की प्रतीक, आदर्श वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई की पुण्यतिथि पर उन्हें शत् शत् नमन।'

भारतीय स्वतंत्रता संग्राम 1857 की विरांगना थीं रानी लक्ष्मीबाई

रानी लक्ष्मीबाई भारतीय स्वतंत्रता संग्राम 1857 की विरांगना थीं। उन्होंने सिर्फ़ 29 साल की उम्र में अंग्रेज़ सेना से जद्दोजहद की और रणभूमि में वे वीरगति को प्राप्त हुईं। रानी लक्ष्मीबाई का जन्म 19 नवम्बर 1828 को हुआ था।लक्ष्मीबाई का जन्म वाराणसी में हुआ था। जब देश के विभिन्न रियासतों के राजा अंग्रेजी हुकूमत के सामने घुटने टेक रहे थे, तब रानी लक्ष्मीबाई ने उनका डटकर मुकाबला किया था। अपनी युद्धकला से अंग्रेजों डटकर मुकाबला किया।