J-K: सेना के साथ हुए मुठभेड़ में 3 आतंकी ढेर, मात्र जून महीने में मारे गए 38 दहशतगर्द!

जम्मू-कश्मीर में आतंकियों के सफाए में सुरक्षाबलों को लगातार कामयाबी मिल रही है. अनंतनाग के खुलचोहर इलाके में सुरक्षाबलों ने आज तड़के तीन आतंकियों मार गिराया. पुलिस के मुताबिक अभी तक आतंकियों की पहचान नहीं हुई है. आज के मुठभेड़ के साथ ही इस साल जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने 116 आतंकवादियों को मार गिराया है. इसमें से 38 आतंकी सिर्फ इस महीने मारे गए हैं.
खबरों मुताबिक पुलिस,सेना और जम्मू-कश्मीर पुलिस ने इस ऑपरेशन को अंजाम दिया. सुरक्षाबलों का ऑपरेशन अभी भी जारी है. माना जा रहा है कि कुछ और आतंकवादी छिपे हो सकते हैं. पुलिस ने इलाके को घेर लिया है और वहां तलाशी अभियान चला रही है. मारे गए आतंकियों के पास से एक एके-47 और 2 पिस्टल बरामद की गई हैं. उनकी पहचान नहीं हो पाई है. संयुक्त टीम पता लगाने की कोशिश कर रही है कि वह किस आतंकी संगठन से जुड़े थे.
आंतकियों के छिपे होने के इनपुट पर सुरक्षा बलों ने सर्च ऑपरेशन शुरू किया था. जैसे ही सुरक्षाबलों ने आतंकवादियों को घेरना शुरू किया, इलाके में छिपे दहशतगर्दों ने फायरिंग शुरू कर दी. सुरक्षाबलों ने इसका मुंहतोड़ जवाब दिया. बता दें कि जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों ने आतंक के खात्मे के लिए ऑपरेशन चलाया हुआ है. इस महीने सीआरपीएफ और जम्मू-कश्मीर पुलिस की संयुक्त टीम ने एक दर्जन से ज्यादा आतंकियों को मार गिराया है. शोपियां, अवंतीपोरा समेत कई इलाकों में यह ऑपरेशन जारी है.

दो आतंकियों की मां और बहन गिरफ्तार

इससे पहले कश्मीर में मारे गए एक आतंकवादी की मां को राइफल के साथ फोटो खिंचवाने और कथित तौर पर लोगों को आतंकवादी समूह में भर्ती करने के लिए गैरकानूनी गतिविधियां रोकथाम अधिनियम के तहत गिरफ्तार किया गया था. इसके अलावा पुलिस ने कुलगाम में सक्रिय एक आतंकवादी की बहन को भी आतंकियों की भर्ती करने में उनकी कथित संलिप्तता के लिए गिफ्तार किया है. जम्मू कश्मीर पुलिस अधिकारियों ने रविवार को यह जानकारी दी.
भाषा के मुताबिक, एक अधिकारी ने बताया कि आतंकवादी अब्बास शेख की बहन और मारे जा चुके आतकंवादी तौसीफ की मां नसीमा बानो को गैरकानूनी गतिविधि अधिनियम के तहत 20 जून को गिरफ्तार किया गया था. कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने बताया कि महिला(बानो) युवाओं को आतंकवादी रैंक में भर्ती करने में शामिल थी. एक अन्य अधिकारी ने बताया कि गिरफ्तार की गई महिला की एक तस्वीर जिसमें वह अपने बेटे के साथ एक हथियार चला रही है, अपने आप सब कुछ कह देती है. उस वक्त उसका बेटा सक्रिय आतंकवादी था.

त्राल क्षेत्र आतंकमुक्त हुआ

जून के महीने में सिर्फ 29 दिन में 38 आतंकी मारे गए हैं. सेना के हाथों मारे गए आतंकियों में अलग अलग आतंकी संगठनों के 6 स्वयंभू कमांडर भी शामिल हैं. इस साल आतंकी संगठन हिज्बुल मुजाहिदीन को तब बड़ा झटका लगा जब आतंकियों के साथ मुठभेड़ में रियाज नायकू भी मारा गया. जम्मू-कश्मीर पुलिस बीते शुक्रवार दावा किया था कि पुलवामा जिले के त्राल क्षेत्र में हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकियों की अब कोई मौजूदगी नहीं है. 1989 में घाटी में आतंकवाद के फैलने के बाद ऐसा पहली बार हुआ है कि त्राल आतंकमुक्त हुआ है.
दक्षिण कश्मीर के पुलवामा जिले में त्राल के चेवा उलार इलाके में सुरक्षा बलों के साथ रात भर हुई मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों के मारे जाने के बाद पुलिस ने यह दावा किया था.इस बारे में बताते हुए कश्मीर के पुलिस महानिरीक्षक विजय कुमार ने कश्मीर क्षेत्र पुलिस के आधिकारिक ट्विटर हैंडल से किए गए एक ट्वीट में कहा था, 'आज के सफल अभियान के बाद त्राल क्षेत्र में अब हिजबुल मुजाहिदीन के आतंकवादियों की मौजूदगी नहीं है. यह 1989 के बाद पहली बार हुआ है.'