चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत ने LAC पर तैनात किया वायु रक्षा मिसाइल प्रणाली!

लद्दाख से लगी चीन सीमा पर जारी तनाव के बीच भारत ने पूर्वी लद्दाख क्षेत्र में हवा में दूर तक मार करने वाली आकाश मिसाइलें तैनात की हैं। भारत ने ये कदम वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) पर चीनी लड़ाकू जेट और हेलीकॉप्टर दिखाई देने के बाद उठाया है। इसके अलावा चीन को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए भारत अब अपने उच्च मारक क्षमता वाले हथियार भी एलएसी पर तैनात कर रहा है।
बता दें कि पूर्वी लद्दाख में भारत और चीन के बीच खूनी झढ़प के बाद भारत लगातार सीमा पर चौकसी बरत रहा है और हर जरुरी कदम उठा रहा है।
न्यूज एजेंसी ANI ने सरकारी सूत्रों के हवाले से बताया कि भारतीय वायु सेना ने क्षेत्र में चल रहे निर्माण के हिस्से के रूप में चीनी वायु सेना को मुंहतोड़ जवाब देने के लिए इन मिसाइलों को पूर्वी लद्दाख के भारत चीन सीमा पर तैनात किया है। दरअसल इस क्षेत्र में चीन ने अपनी गतिविधियां बढ़ाए रखी हैं और उन्हें जवाब देने के लिए ये जरुरी कदम है।

सीमा के नजदीक दिखाई दिए थे चीनी हेलीकॉप्टर

सरकारी सूत्रों का कहना है कि भारत जल्द ही यहां रूस से मिलने वाली उच्च प्रदर्शन क्षमता वाली मिसाइलें भी तैनात कर सकता है। गौरतलब है कि भारत और रूस के काफी अच्छे संबंध हैं और तनाव के इन हालातों में रूस भारत को ये मिसाइलें देने को भी तैयार हुआ है। सूत्रों का ये भी कहना है कि चीनी हेलीकॉप्टरों ने सभी दुर्गम क्षेत्रों में भारतीय एलएसी के बहुत करीब से उड़ान भर रहे हैं।
इन हेलीकॉप्टरों को उत्तरी उप क्षेत्र (दौलत बेग ओल्डि सेक्टर), गलवन घाटी के पास पेट्रोलिंग पॉइंट 14, पेट्रोलिंग पॉइंट 15, पेट्रोलिंग पॉइंट 17 और 17 ए (हॉट जोन स्प्रिंग्स) के साथ-साथ पेंगोंग त्सो और फिंगर जोन के पास तक लगातार उड़ान भर रहे हैं। इसके बाद ही भारत ने मिसाइलें तैनात की है।

भारतीय वायुसेना कर रही युद्धाभ्यास

चीन से तनाव के बीच भारतीय वायुसेना लगातार अभ्यास कर रही है। इसके तहत सुखोई 30 एमके आई के साथ ट्रांसपोर्ट विमान व चिनूक हेलीकॉप्टर लगातार उड़ाने भर अभ्यास कर रहे हैं। वायुसेना के ये विमान साजो सामान लेकर क्षेत्र के विभिन्न स्थानों पर पहुंच रहे हैं और क्षेत्र में सेना की ताकत बढ़ा रहे हैं। ये विमान चंडीगढ़ से लगातार लद्दाख के लिए उड़ानें भर रहे हैं। थलसेना व वायुसेना प्रमुखों ने हाल ही में पूरे क्षेत्र का दौरा कर जवानों और वायुसैनिकों का उत्साह बढ़ाया है। खासतौर से पूर्वी लद्दाख क्षेत्र के जवान ज्यादा चौकस नजर आ रहे हैं।